,

हक

Hindi Kavita

न मस्जिद की बात हो,
न शिवालों की बात हो,
जनता भूखी है,
निवालों की बात हो,
मेरी नींद को दिक्कत न भजन से है
न अजान से है,
मुझे दुःख तो मरते हुए जवान ,
खुदखुशी करते किशान से है

— ©® Drizzle Aakanksha Khare

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Merry Christmas

Santa Claus Is Coming Around – Merry Christmas

Poetry

ऐ तकदीर लिखने वाले एक एहसान कर दे